योगी आदित्‍यनाथ के एक्‍शन से थर्राए यूपी के ‘गुंडे’ ! ना भ्रष्‍टाचार, ना गुंडाराज सिर्फ ‘रामराज’

yogi-adityanath, योगी आदित्‍यनाथ

उत्‍तर प्रदेश में मुख्‍यमंत्री की कुर्सी संभालते ही योगी आदित्‍यनाथ अपने पूरे एक्‍शन में आ गए हैं। मतलब साफ है कि यूपी में अब गुंडाराज बर्दास्‍त नहीं होगा।

New Delhi Mar 20 : जो लोग योगी आदित्‍यनाथ को बेहद करीब से जानते हैं उन्‍हें ये भी पता होगा कि वो कितने कड़क प्रशासक हैं। योगी आदित्‍यनाथ उत्‍तर प्रदेश में सरकार का कामकाज संभाल चुके हैं। शपथ ग्रहण के बाद से ही वो पूरे एक्‍शन में नजर आ रहे हैं। योगी ने साफ कर दिया है कि प्रदेश में ना तो गुंडाराज बर्दास्‍त होगा और ना ही भ्रष्‍टाचार। जाहिर है ऐसे में उन लोगों की हवा खराब है जो यूपी में गुंडई किया करते थे या दबंगई किया करते थे। लेकिन, योगी राज में ना तो अब गुंडों की गुंडई चलेगी और ना ही दबंगों की दबंगई। पूर्वांचल के बड़े नेता होने के नाते उन्‍हें पता है कि कौन कहां-कहां पर दबंई और गुंडई करता है। पुलिस के सूत्र बताते हैं कि इस वक्‍त यूपी के गुंडों की हालत खराब है।

Advertisement

उन्‍हें यूपी में कल्‍याण सिंह और राजनाथ सिंह का जमाना याद आ रहा है। जाहिर है योगी आदित्‍यनाथ गुंडाराज और भ्रष्‍टाचार के खिलाफ कल्‍याण सिंह और राजनाथ से भी ज्‍यादा कड़क मिसाल पेश करने की तैयारी में हैं। वो यूपी के डीजीपी को भी सख्‍त निर्देश दे चुके हैं। यूपी की सड़कों पर भी सत्‍ता के इस परिर्वतन का असर दिखने लगा है। हालांकि ये नहीं कहा जा सकता है भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद उत्‍तर प्रदेश पूरी तरह अपराध मुक्‍त हो जाएगा या यहां पर कोई भी क्राइम होगा ही नहीं। लेकिन, कड़क प्रशासक की वजह से पुलिस की मुस्‍तैदी बढ़ जाती है और ऐसे में क्राइम कंट्रोल में काफी मदद मिलती है। पूर्व की सरकारों पर हमेशा से ये आरोप लगते रहे हैं कि वो अपराधियों और बाहुबलियों को ही संरक्षण देने का काम करती थी।

Advertisement

लेकिन, भारतीय जनता पार्टी की सरकार में ना तो अतीक अहमद हैं और ना ही राजा भैया। मुख्‍तार अंसारी सरीखे नेता भी बीजेपी में नहीं हैं। लेकिन, इन बाहुबलि नेताओं को भी ये ध्‍यान रखना होगा कि उत्‍तर प्रदेश में सत्‍ता बदल चुकी है। उनका सामना ना तो मुलायम सिंह यादव ये होगा और ना ही उनके सामने अखिलेश यादव हैं। सत्‍ता में मायावती भी नहीं हैं। बल्कि सत्‍ता की कमान योगी आदित्‍यनाथ के हाथ में हैं। सूत्रों की मानें तो यूपी के हिस्‍ट्रीशीटर इस बात से सहमे हुए हैं कि कहीं उनकी जरा सी भूल उनकी जिदंगी पर भारी ना पड़ जाए। हालांकि यूपी के हिस्‍ट्रीशीटरों को सुधरना इतना आसान नहीं होता है। लेकिन, अगर इन बदमाशों के दिन में पुलिस का खौफ बैठ गया तो यकीन मानिए क्राइम कंट्रोल तय है।

दूसरी ओर योगी आदित्‍यनाथ भ्रष्‍टाचार को लेकर भी काफी सख्‍त नजर आ रहे हैं। जिसकी शुरुआत उन्‍होंने अपने मंत्रिमंडल से ही कर दी है। योगी कह चुके हैं कि वो सबका साथ, सबका विकास के एजेंडे पर ही काम करेंगे। इसके साथ ही उन्‍होंने अपने सभी मंत्रियों से भी कह दिया है कि वो 15 दिन के भीतर अपनी संपत्ति का ब्‍यौरा दें। योगी आदित्‍यनाथ ने अपने सभी मंत्रियों को जुबान पर लगाम लगाने की भी नसीहत दी है। उन्‍होंने कहा कि मंत्रियों को अनाप-शनाप बयानबाजी से बचना चाहिए। योगी इस वक्‍त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राह पर हैं। मोदी ने भी सत्‍ता संभालते ही अपने मंत्रियों की संपत्ति का ब्‍योरा मांग लिया था। ताकि उन्‍हें पता चलता रहे कि कहीं किसी मंत्री की संपत्ति में दूसरे तरीके का इजाफा तो नहीं हो रहा है। जैसा समाजवादी पार्टी की सरकार में गायत्री प्रजापति के साथ हुआ था। यानी योगी आदित्‍यनाथ का मैसेज अपनी सरकार और प्रदेश की पुलिस के लिए एक दम क्‍लीयर है।

आगे पढि़ए – जानिए मुलायम ने मोदी के कान में क्‍या कहा ?

Click To Comment
Daily Horoscope
Share music with a swipe on ‘Muzik’ headphones

Share music with a swipe on ‘Muzik’ headphones

Muzik CEO Jason Hardi first introduced a version of the headphones in 2013 and now coming up with a refined product. New York, Jan 05 : Muzik, a high-end headphone startup, is coming up with a new device that will allow users to control the tunes they are listening to by swiping on buttons on the device and share them with social websites. Muzik said that it has raised $18 million over a couple of years, and Twitter is one of…
खून की कमी को पूरा करने के लिए खाएं कुछ मसालेदार

खून की कमी को पूरा करने के लिए खाएं कुछ मसालेदार

शरीर में खून की कमी के कई कारण हो सकते हैं. लेकिन इस कमी की भरपाई कर पाना कहते हैं इतना आसान नहीं है. वो सब खाना पड़ता है जो खाना आपको पसंद ना हो. New Delhi, Oct 3 : शरीर में खून की कमी के कई कारण हो सकते हैं. लेकिन इस कमी की भरपाई कर पाना कहते हैं इतना आसान नहीं है. वो सब खाना पड़ता है जो खाना आपको पसंद ना हो. लेकिन अगर हम आपको ऐसी…
Steven Menezes

Steven Menezes

Steven Menezes | Astrology Expert Steven Menezes is a consulting Vedic astrologer with interceding subspecialty of Prashna Jyotish - engages “Arooda rasi” – a ‘fixed zodiac sign’ for the specific query identified within the moving zodiac as a prime reference point. This ancient procedure aids in finding causes and derive solutions for serious life threatening problems, especially to a person who is on his path of miseries and to those who seek divine intervention for the guidance. He has over 30…
Please enable JavaScript!