जेएनयू में नहीं चलेगा विदेशी चंदे का धंधा, गृह मंत्रालय ने 100 संस्थानों का कैसिंल किया लाइसेंस

jnu

विदेशी चंदे को लेकर गृह मंत्रालय ने बड़ी कार्रवाई की है। गृह मंत्रालय ने जेएनयू समेत 100 संस्‍थानों का FCRA लाइसेंस रद्द कर दिया है।

New Delhi Sep 14 : देश के शिक्षण संस्‍थानों में विदेशी चंदे या कहें विदेशी फंडिंग को लेकर गृह मंत्रालय ने बड़ी कार्रवाई की है। तय नियमों का उल्‍लंघन करने और सालाना रिटर्न दाखिल ना करने की वजह से गृह मंत्रालय ने जेएनयू समेत करीब सौ संस्‍थानों का विदेशी चंदा विनियामक अधिनियम 2010 यानी FCRA लाइसेंस की रद्द कर दिया है। यानी सरकार ने अब जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी, दिल्ली यूनिवर्सिटी, आईआईटी-दिल्ली और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद जैसे सौ से ज्यादा बड़े उच्च शिक्षण संस्थानों पर विदेश से फंड लेने पर रोक लगा दी है। कुछ जगहों पर ये भी देखा गया है कि इस विदेशी चंदे का इस्‍तेमाल गलत तरीके से भी किया जा रहा था।

Read Also : जेएनयू में लहराया लाल परचम, चारों सीटों पर लेफ्ट यूनिटी का कब्जा !

बहरहाल, जानकारी के मुताबिक केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ये कार्रवाई इसलिए की है क्‍योंकि इन संस्‍थानों की ओर से पिछले 5 सालों का सालाना रिटर्न ही दाखिल नहीं किया गया था। इन संस्‍थानों ने रिटर्न दाखिल कर सरकार को ये तक बताना मुनासिफ नहीं समझा कि उन्‍हें विदेशी चंदे के रूप में कितना पैसा मिला है और उस पैसे का इस्‍तेमाल कहां किया गया। उच्‍च शिक्षण संस्‍थानों की विदेशी चंदे पर रिटर्न दाखिल ना करने को विदेशी चंदा विनियामक अधिनियम, 2010 के तय नियमों का उल्‍लंघन माना गया। जिसके बाद इन सभी के FCRA कैंसिल कर दिए गए। यहां ये भी समझना बहुत जरुरी है कि कोई भी संस्‍थान विदेश से चंदा तभी ले सकता है तब वो FCRA में रजिस्‍टर्ड हो। उसे इसका लाइसेंस हासिल हो।

Read Also : जेएनयू में कंडोम मिलने का दावा करने वाले एमएलए ने पहलू खान की मौत पर दिया शर्मनाक बयान, कहा

विदेशी चंदा विनियामक अधिनियम 2010 के तय नियमों के मुताबिक जिन संस्‍थानों को लाइसेंस जारी किया जाता है उन्‍हें अपनी सालाना इनकम और खर्च का ब्यौरा केंद्र सरकार को देना होता है। जो अनिवार्य नियम है। इसके अलावा एक शैक्षिक संस्थान के लिए विदेशों में बसे अपने पूर्व छात्रों से भी चंदा या दान हासिल करने के नियम बने हुए हैं। इसके लिए भी FCRA का रजिस्‍ट्रेशन नंबर जरुरी होता है। गृहमंत्रालय की ओर से जिन संस्‍थानाें का FCRA लाइसेंस कैंसिल किया गया है। उसमें जेएनयू, डीयू आईआईटी दिल्‍ली और आईसीएआर के अलावा  सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च, इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, पंजाब यूनिवर्सिटी और दिल्‍ली का गार्गी कॉलेज भी शामिल है।

Read Also : विवादों के बाद भी कम नहीं हो रहा जेएनयू का क्रेज इस बार एडमिशन के लिए आए आवेदनों ने तोड़ा रिकॉर्ड !

इसके अलावा दिल्‍ली के ही लेडी इरविन कॉलेज, एस्कॉर्ट हार्ट इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर, नेहरू युवा केंद्र संगठन, गांधी पीस फाउंडेशन, आर्म्ड फोर्सेस फ्लैग डे फंड, फिक्की सोशियो इकोनॉमिक डेवलपमेंट फाउंडेशन और स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड ऑर्किटेक्चर का नाम भी शामिल है। विदेशी चंदे को लेकर दून स्कूल ऑफ ओल्ड ब्वॉयज एसोसिएशन और दिल्‍ली के खासला कॉलेज का भी FCRA लाइसेंस कैसिंल किया गया है। इसके अलावा देश की कई और नामी गिरामी संस्‍थाएं हैं जिन पर विदेशी चंदे को लेकर नियमों की अनदेखी के चलते कार्रवाई की गई है। दरअसल, सरकार नहीं चाहती है कि देश में किसी भी संस्‍थान में विदेशी चंदे का गलत इस्‍तेमाल हो। इसलिए सभी पर लगाम लगाया जा रहा है। ताकि व्‍यवस्‍थाएं बेलगाम ना हों।  

आगे पढि़ए – जेएनयू में नहीं जलेगी राष्ट्रवाद की अलख !

Click To Comment
Daily Horoscope
An app to replace passport with smartphone

An app to replace passport with smartphone

New Delhi, Jan 13: In development to its business of 200 years an Austrian passport maker has developed a app that can securely save all kinds of your personal data replacing important delicate physical documents, like your passports. OeSD hopes the software can manage with all types of ID, and says that if it sells in 2016, the system will be operational in 2017. The executive director OeSD, Lukas Praml said, “Everything’s moving to the smartphone.” This“My Identity App,” needs…
हार्ट को बीमारी से रखिए दूर, बस कीजिए ये 5 सबसे जरूरी काम

हार्ट को बीमारी से रखिए दूर, बस कीजिए ये 5 सबसे जरूरी काम

मॉर्डन लाइफस्‍टाइल में दिल का ख्‍याल रखना भी उतना ही जरूरी है जितना स्‍मार्ट बनने और दिखने में मेहनत करना । लेकिन कैसे, आगे पढ़ें पूरी जानकारी ... New Delhi, 07 Oct : दिल को स्‍वस्‍थ रखने, हार्ट अटैक या स्‍ट्रोक के खतरे से बचाने के लिए बहुत जरूरी है इसका ख्‍याल रखना । लेकिन हम अपने दिल का ख्‍याल भला कैसे रख सकते हैं, कैसे रोजमर्रा की जिंदगी में दिल को गंभीर बीमारी के खतरे से बचा सकते हैं…
Ankush Kakkar

Ankush Kakkar

Ankush Kakkar | Ankush Kakkar is having 10 year Experience in Vedic astrology and Vastu Consultancy.Ankush Kakkar have an expertise in four different streams of astrology. These are Vedic, Lal Kitab, KP and Vastu Consultancy. All of these streams have their strengths and weaknesses. I have an extensive knowledge as to where to use which stream for a flawless prediction. Some are used in Horary Astrology and some are good in predicting Varshphal. You need not worry if you do not…