राहुल गांधी अगले महीने संभालेंगे बड़ी जिम्मेदारी, ये हो सकती है आगे की रणनीति !

राहुल गांधी ने ये संवाद तब किया है, जब माना जा रहा है कि अक्टूबर में वो आधिकारिक तौर पर पार्टी की जिम्मेदारी अपने हाथों में लेंगे, इससे पहले वो अपनी छवि दुरुस्त करना चाहते हैं।

New Delhi, Sep 13 : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का अमेरिका जाना, वहां संवाद करना, उनके टीम के भविष्य की रणनीति का हिस्सा है। कांग्रेस उपाध्यक्ष द्वारा अमेरिका में दिये गये बयान और सवालों के जवाब इशारा कर रहे हैं कि उनकी आगे की रणनीति किस दिशा में जाने वाली है। राहुल गांधी ने अपने संवाद में पार्टी अध्यक्ष की कुर्सी हो या फिर पीएम पद की उम्मीदवारी दोनों तरफ ही संकेत दे दिया है कि वो तैयार हैं, ये सब कुछ यूं ही नहीं हुआ है, इसके पीछे मोदी विरोध की राजनीति, नीतीश कुमार से अलग होना और भविष्य के लिहाज से कांग्रेस उपाध्यक्ष का तैयार होना है।

राहुल गांधी ने ये संवाद तब किया है, जब माना जा रहा है कि अक्टूबर में वो आधिकारिक तौर पर पार्टी की जिम्मेदारी अपने हाथों में लेंगे, इससे पहले वो अपनी छवि दुरुस्त करना चाहते हैं, वो नेहरु-गांधी परिवार की विरासत को संभालना चाहते हैं, लेकिन बोझ नहीं ढोना चाहते, यही वजह रही कि राहुल ने सिख दंगों पर अपनी राय जाहिर करते हुए खुद को पीड़ितों के साथ बताते हुए, उस घटना को गलत बताया। इतना ही नहीं उन्होने सोनिया गांधी के कार्यकाल पर भी सवाल उठाये, उन्होने कहा कि 2012 के बाद कांग्रेस अहंकारी हो गई, वो आम लोगों से संवाद नहीं कर पा रही थी। इसके बाद तो सभी जानते हैं कि 2014 में यूपीए सरकार भ्रष्टाचार की वजह से बदनाम हुई, जिसकी वजह से पार्टी 44 सीटों पर आ गई।

राहुल गांधी के रणनीतिकारों की निगाह सिर्फ कांग्रेस अध्यक्ष पद पर ही नहीं है, बल्कि पीएम उम्मीदवार बनाकर राहुल गांधी को सोनिया के बजाय विपक्ष के नेता के तौर पर स्थापित करने की है। इसी वजह से राहुल गांधी ने पीएम पद उम्मीदवारी पर सीधे संकेत दे दिये, इसके लिये भी उनके रणनीतिकारों ने पूरी तैयारी कर ली थी, वो जानते हैं कि कांग्रेस विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी है, लेकिन विपक्ष के नेता के तौर पर उन्हें दूसरी पार्टी के नेताओं का भी सहयोग चाहिये होगा। ये बात किसी से छुपी नहीं है कि नीतीश कुमार के विपक्ष में रहते राहुल असमंजस में थे, उनके करीबियों के अनुसार नीतीश कुमार को पीएम उम्मीदवार बनाने तक को राहुल तैयार थे, लेकिन नीतीश ने ऐन मौके पर ही साथ छोड़ दिया, जिससे राहुल गांधी को नई रणनीति के साथ सामने आने पर मजबूर होना पड़ा।

टीम राहुल का मानना है कि सियासी हालात देशभर में बदल रहे हैं, अब नीतीश कुमार मोदी के साथ हैं, तो तमाम प्रदेशों में भी क्षेत्रीय दलों की कमान नई पीढी संभाल रही है, Rahul Gandhiजिससे राहुल गांधी लगातार संपर्क बना रहे हैं, वो राहुल को अपना नेता मानने में परहेज नहीं करने वाली, उनके रणनीतिकारों के अनुसार राज्य स्तर पर रणनीति बनानी होगी, तभी मोदी से मुकाबला किया जा सकता है।

Read Also : पहली बार देश के किसी मस्जिद में जाएंगे पीएम मोदी, जापानी प्रधानमंत्री को करेंगे गाइड !

Click To Comment
Daily Horoscope
बाप रे बाप: ये कैसा स्मार्टफोन है ? 38 दिन का बैटरी बैकअप…इसे कहते हैं बेस्ट सेल फोन !

बाप रे बाप: ये कैसा स्मार्टफोन है ? 38 दिन का बैटरी बैकअप…इसे कहते हैं बेस्ट सेल फोन !

कैसा रहेगा अगर आपके हाथ में ऐसा स्मार्टफोन हो, जिसका बैटरी बैकअप 38 दिन का हो तो आप क्या कहेंगे। इसे आप बेस्ट सेल फोन कहेंगे तो हैरानी नहीं होगी। New Delhi, Nov 11 : मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनी ऐसुस ने भारत के मोबाइल मार्केट में दो नए बेस्ट सेल फोन लॉन्च कर दिए हैं। इन फोन का नाम है ZenFone 3 Max और इसके वैरियंट हैं ZC553KL और ZC520TL। इन दोनों फोन के स्पेसिफिकेशन और फीचर्स लाजवाब हैं और…
वजन कम करना है तो खाएं ये दाने  

वजन कम करना है तो खाएं ये दाने  

मेथी के दाने आपके शरीर को कई बीमारियों से लड़ने की ताकत देते हैं. वजन कम करने के साथ-साथ डायबिटीज को भी आपके शरीर से दूर रखने में मददगार होते हैं. New Delhi, Nov 12 : इससे पहले भी कई बार हम आपको हरी मेथी के फायदों के बारे में बता चुके हैं. हरी मेथी की सब्जी, पराठे और मुठिया जहां आपके स्वास्थ्य को फायदा पहुंचते हैं, वहीं मेथी के दाने भी आपके शरीर को कई बीमारियों से लड़ने की…
J K Sethi

J K Sethi

J K Sethi | J K Sethi Ji is as an Indian Vedic Astrologer and learnt astrology from India's renowned institutions & worldwide famous Astrologer and conferred the title of "Jyotish Shiromani", "Jyotish Visharad" & "Jyotish Kovid" from various institutions of India, practicing Systems Approach to Vedic Astrology (Hindu system of Astrology) since last decade. Life member of Indian Council of Astrological Sciences (ICAS), Madras, Member of International Institute of Predictive Astrology (IIPA), Satva, Systems Institute of Hindu Astrology. He has been participating in many consultation clinics…