आईआईटी से पढाई, फिर जापानी लड़की से शादी, अब संभालेंगे बुलेट ट्रेन का जिम्मा !

Sanjeev sinha1

संजीव के पिता वीरेन्द्र सिन्हा ने कहा कि उनके बेटे की कामयाबी पर पूरे देश को फ्रख है, उन्होने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उनका बेटा देश की पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का सलाहकार बनेगा।

New Delhi, Sep 14 : देश की पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के सलाहकार बनें आईआईटीयन संजीव सिन्हा राजस्थान के बाड़मेर के रहने वाले हैं, उनकी पहली ही कोशिश में आईआईटी मे चयन हो गया था, पिता ग्रिफ में नौकरी करते थे, लेकिन तनख्वाह कम होने की वजह से बैंक से लोन लेकर बेटे की पढाई पूरी करवाई। बाड़मेर जिले के पहले आईआईटीयन बनें संजीव ने अपनी मां से किया 25 साल पहले के वादे को अब पूरा कर दिखाया है।

आपको बता दें कि बाड़मेर की अंबेडकर कॉलोनी निवासी वीरेन्द्र सिन्हा के दो बेटे संजीव और राजीव हैं, राजीव सूरत के एक बैंक में एजीएम के पद पर कार्यरत हैं, उनकी मां उषा रानी का 14 साल पहले ही निधन हो गया, अब पिता वीरेन्द्र सिन्हा अकेले रहते हैं, वो जून में ही संजीव से मिलने टोक्यो गये थे, वहां एक महीने गुजारने के बाद वापस राजस्थान लौट आये। संजीव सिन्हा ने जापान में ही शादी कर ली, उनकी एक बेटी भी है। देश की पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर करीब 1 लाख करोड़ रुपये खर्च होंगे, इस प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी जापान रेलवे ने संजीव के युवा कंधों पर दी है। अहमदाबाद-मुंबई हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट के लिये उन्हें सलाहकार नियुक्त किया गया है।

इस महत्वाकांक्षी योजना का भूमिपूजन अहमदाबाद में आज जापान के पीएम और नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में होना है, ये प्रोजेक्ट साल 2023 तक पूरा करने का टारगेट है। Sanjeev sinhaसंजीव के पिता वीरेन्द्र सिन्हा ने कहा कि उनके बेटे की कामयाबी पर पूरे देश को फ्रख है, उन्होने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उनका बेटा देश की पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का सलाहकार बनेगा।

संजीव के बारे में बताते हुए उन्होने कहा कि वो बचपन से ही जिद्दी हैं, शुरुआती पढाई से ही उनका परफॉरमेंस बेहतरीन था, वो दसवीं बोर्ड में टॉपर थे, तो बारहवीं में स्टेट में 8वें नंबर पर। फिर आईआईटी में पहली ही कोशिश में चयन हो गया, कानपुर में पांच साल मेहनत करने के बाद वो जापान चले गये, वहां पर कई कंपनियों में काम करने के बाद टाटा में एग्जिक्यूटिव बनें। मालूम हो कि राजस्थान के बाड़मेर जिले के पहले आईआईटीयन बनने का रिकार्ड संजीव के नाम दर्ज है, उनका जन्म 21 जनवरी 1973 को बाड़मेर में ही हुआ था। खास बात ये भी है कि उन्होने पढाई के दौरान कभी कोचिंग नहीं ली, सेल्फ स्टडी के जरिये ही उन्होने हमेशा पढाई की और अव्वल रहे।

Read Also : चीन को भारत का जवाब है ‘माउंटेन रेजीमेंट’,मोदी के महाबली का हाहाकारी ऐलान !

Click To Comment
Daily Horoscope
2018 में आ रही है होंडा की ये लग्जरी कार, फीचर्स देखकर दंग रह जाएंगे आप!

2018 में आ रही है होंडा की ये लग्जरी कार, फीचर्स देखकर दंग रह जाएंगे आप!

साल 2018 में होंडा की एक लग्जरी कार आप सभी के सामने आने वाली है। अभी से दावा किया जा रहा है कि ये कार तमाम रिकॉर्ड्स अपने नाम करेगी। New Delhi, Jul 16 : साल 2018 लग्जरी कार लवर्स के लिए शानदार रहने वाला है। जी हां ये ऐलान किया है होंडा ने। अगर होंडा की कार एकॉर्ड को साल 2018 की मोस्ट अवेटेड कार कहा जाए तो कुछ गलत नहीं होगा। बताया जा रहा है कि ये कार…
अच्‍छी सेहत के लिए जरूरी है ‘गहरी नींद’ … ‘पॉवर नैप’ बढ़ा सकती है याद्दाश्‍त !

अच्‍छी सेहत के लिए जरूरी है ‘गहरी नींद’ … ‘पॉवर नैप’ बढ़ा सकती है याद्दाश्‍त !

सब कुछ पाने की चाह रखने वाली ये जिंदगी हमें गहरी नींद से महरूम कर रही हैं .... भागदौड़ में सोने के लिए समय ही नहीं बचता । New Delhi, Feb 15 : हर दिन और अच्‍छा करने की चाह ... नौकरी में बेस्‍ट देने की इच्‍छा ... खूब सारा पैसा कमाने की आपाधापी ... नाश्‍ते का समय नहीं ... लंच जरूरी नहीं ... डिनर का अता - पता नहीं ... और इतने सब के बाद रात को चैन की…
Dr. Krishnendu Chakraborty

Dr. Krishnendu Chakraborty

Dr. Krishnendu Chakraborty | Dr.Krishnendu Chakraborty is an experienced astrologer having proficiency in traditional astrology and palmistry. He has learnt(M.A.-M.Phil.-Ph.D.) astrology from International University of Astrological Science. He got doctorate on medical astrology. He is practicing astrology for 15 years. He has made many successful predictions on individual nativities.He employs a composite method of prediction taking Vedic astrology. He also prescribes remedial measures in the form of Gemstones,puja, yogya, Mantras and Yantras after deep and thorough analysis of horoscopes to help…