पीएम मोदी से एक कदम आगे निकले सीएम योगी… ऐतिहासिक फैसले पर लगाई मुहर !

Advertisement

yogi-adityanath-car, योगी आदित्यनाथ

पीएम मोदी ने देश से वीवीआईपी कल्चर खत्म करने के लिए नेताओं-अफसरों की गाड़ियों पर से लाल बत्ती हटाने का आदेश दिया था।

Advertisement

New Delhi, Apr 21 : उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्य की व्यवस्था में सुधार के लिए इतनी तेजी और सधे दिमाग के साथ काम कर रहे हैं कि उनकी तुलना पीएम मोदी से की जाने लगी है। बहरहाल सीएम योगी, पीएम मोदी के साथ कदम से कदम मिला कर चलने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने सीएम पद की शपथ लेने के बाद कहा भी था कि वो पीएम मोदी के कहे सबका साथ, सबका विकास के एजेंडे के साथ आगे बढ़ेंगे। पीएम मोदी ने दिल्ली से वीवीआईपी कल्चर पर चोट करते हुए लालबत्ती पर रोक लगाने का फैसला किया तो यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका तत्काल प्रभाव से स्वागत किया। योगी आदित्यनाथ ने पीएम के फैसले को दस दिन पहले ही यूपी में लागू कर दिया।

Read Also : मोदी के इस दांव से विरोधी हुए चारों खाने चित… छिन लिया एक बड़ा मुद्दा !

Advertisement

आज से यूपी में लाल और नीली बत्ती बत्ती लगी गाड़ियां नजर नहीं आएंगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार शाम विभागों की प्रेजेंटेशन देखने के लिए बैठक बुलाई थी। सीएम योगी ने प्रेजेंटेशन तो देखी ही, इसके साथ ही पीएम मोदी के फैसले पर अमल का आदेश भी जारी कर दिया। बताते चलें कि पीएम मोदी ने देश में बढ़ते वीआइपी कल्चर पर अंकुश लगाने के लिए सभी नेताओं, जजों तथा सरकारी अफसरों की गाड़ियों से लाल बत्ती हटाने का फैसला किया है। इनमें राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्री, सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश, उच्च न्यायालयों के न्यायाधीश, राज्यों के मुख्यमंत्री व मंत्री तथा सभी सरकारी अफसरों के वाहन शामिल हैं। अब केवल एंबुलेंस, फायर सर्विस जैसी आपात सेवाओं तथा पुलिस व सेना के अधिकारियों के वाहनों पर नीली बत्ती लगेगी। यह फैसला एक मई से लागू होगा। लेकिन उत्तर प्रदेश के सीएम योगी ने पूरे राज्य में 21 अप्रैल से ही लाल और नीली बत्ती के इस्तेमाल पर ब्रेक लगाने का आदेश जारी कर दिया है।

Read Also : न्यूजीलैंड ने भी गिराया भारतीयों के सपनों पर गाज… मोदी के ग्लोबल ड्रीम को लगा झटका !

Advertisement

सीएम योगी ने मीटिंग में फैसला किया कि कोई भी नेता, मंत्री या अधिकारी अपनी गाड़ियों पर लाल और नीली बत्ती नहीं लगाएगा। यानी आज से नेताओं या अधिकारियों की गाड़ियों पर कोई बत्ती नजर नहीं आएगी, अगर आदेश का उल्लंघन किया गया तो ऐसा करने वालों के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा। बता दें कि हूटर बजाने का आदेश पहले ही खत्म किया जा चुका है। पीएम मोदी का फैसला आने के बाद कई केंद्रीय मंत्रियों और राज्य के मंत्रियों ने भी अपनी गाड़ियों पर से लाल बत्ती उतारना शुरू कर दिया था। यूपी की राज्य मंत्री स्वाति सिंह समेत कई मंत्रियों ने अपनी गाड़ी से लाल बत्ती पहले ही उतार दी थी, हालांकि अधिकारियों की गाड़ियां पहले की तरह नीली बत्ती लगाकर चलती रही। कई अधिकारियों के बच्चे और परिवार के लोग भी नीली बत्ती लगाकर स्कूल पहुंचते रहे, बाजार घूमते रहे।

Read Also : राहुल गांधी की ‘मंत्री चालीसा’ …2019 में भी नरेंद्र मोदी का जीतना तय !

Advertisement

बताते चलें कि मोदी कैबिनेट ने बुधवार को गाड़ियों से लाल बत्ती हटाने का फैसला लिया था। फैसले के बाद पीएम मोदी ने कहा था कि ये कल्चर पहले ही खत्म हो जाना चाहिए था। परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि जो इस नियम का पालन नहीं करेगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। बहरहाल उम्मीद है कि यूपी के अफसर भी आज से सुधर जाएंगे और सीएम योगी का आदेश मानते हुए नीली बत्ती लगाकर चलना बंद कर देंगे। अफसरों और उनके परिवारों में वीवीआईपी दिखने का जबरदस्त क्रेज रहा है, कई बार वो नीली बत्ती का रौब झाड़ते भी दिखाई दिए हैं, उम्मीद है कि अब एक समानता का भाव आएगा, वीवीआईपी कल्चर खत्म होगी।

Read Also : मोदी के इस दांव से हिंदुस्तान बनेगा अमीर …गरीब परिवारों में बंटेंगे 1-1 लाख रुपये !

Click To Comment
Advertisement

Please enable JavaScript!