हर वक्त चौंकन्ने रहते हैं योगी आदित्यनाथ…सिर्फ 4 घंटे की नींद…जानिए और भी बहुत कुछ…

gkp-yoga-, योगी आदित्यनाथ

बिना नींद पूरी किये ऐसी दिनचर्या बेहद मुश्किल है, कम नींद और खुद को स्वस्थ्य रखने के लिये योगी आदित्यनाथ खास तरह का योग करते हैं।

New Delhi, Mar 20 : यूपी के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रोजाना सिर्फ 3 से 4 घंटे ही सोते हैं, सुबह तीन बजे उठ जाना और रात करीब 12 बजे तक जागते रहना, इस दौरान योगी के कामों की फेहरिस्त भी काफी लंबी होती है। ऐसे में जाहिर है कि बिना नींद पूरी किये ऐसी दिनचर्या बेहद मुश्किल है, कम नींद और खुद को स्वस्थ्य रखने के लिये योगी आदित्यनाथ खास तरह का योग करते हैं। आदित्यनाथ रोजाना हठ योग करते हैं, जानकारों के अनुसार हठ योग करने वालों को तीन से साढ़े तीन घंटे की नींद भी पर्याप्त होती है।

Advertisement

Read Also : योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश को खामोश करा दिया… दिया सबसे विवादित बयान !

हठयोग के जरिये ही योगी अपने शरीर को स्वस्थ्य रखते हैं, इतनी कम नींद लेने के बावजूद उनके शरीर पर इसका असर नहीं होता। अब आपके मन में ये सवाल उठ रहा होगा कि क्या है हठयोग ? तो आपको बता दें कि हठयोग कई योगासनों का मिश्रण है, जिसे रोजाना नियम से करना ही हठयोग कहलाता है, यानि शरीर, मन मस्तिष्क के संतुलन का नाम है हठ। हां, आपको ये भी बता दें कि इसका अविवाहित होने या संत होने से कोई लेना-देना नहीं है। हठ ह और व दो शब्दों से मिलकर बनता है, ह का अर्थ होता है सूर्य और व का अर्थ होता है चंद्र, हिंदू संस्कृति में माना जाता है कि स्वयं भगवान शिव ने इस योग को दिया है।

Advertisement

Read Also : योगी आदित्यनाथ के CM बनने से मुस्लिम डरे नहीं हैं, कुछ लोग अफवाहें जरूर फैला रहे हैं

हठयोग के बारे में कहा जाता है कि ये मन और प्राण में छिपी अनंत शक्तियों का विकास करने वाला है, नौकरी करने वाले या फिर गृहस्थ जीवन में रह रहे लोग भी इसे अपनाकर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इस योग के सात अंग बताये गए हैं जैसे कि पट्कर्म, आसन, मुद्रा, प्रत्याहार, प्राणायाम, ध्यान और समाधि। इस योग में करीब 12 आसन हरदिन करने होते हैं, सूर्य नमस्कार और प्राणायाम भी हठयोग में ही शामिल है, इसे करने के लिये किसी भी तरह की पाबंदी नहीं है। सीधे शब्दों में कहे तो शरीर, मन और मस्तिष्क के संतुलन का नाम ही हठयोग है।
षटकर्म – षटकर्म का मतलब होता है 6 कर्म, षट्कर्म हठयोग में बतायी गयी 6 क्रियाएं हैं, ये आसन हमारे शरीर में शक्ति को बढ़ाता है, इनसे हमारे अंदर सुख और शांति का समावेश होता है।
आसन – सुखपूर्वक और स्थिरता से जिसमें बैठ सके वही उप्युक्त आसन कहलाता है, ये आसान शारीरिक व्याधि से मुक्ति और स्वास्थ्य लाभ के लिए किये जाते है। इसे नियमित करने से शरीर से कई विकारों का विनाश हो जाता है।

Read Also : क्या मुसलमानों को अब योगी आदित्यनाथ को नए सिरे से समझने की जरूरत है?

प्राणायाम – प्राणायाम का मतलब प्राण पर नियंत्रण होता है, इसे कई लोग “कुम्भक” के नाम से भी जानते हैं। मन और इंद्रियों पर नियंत्रण पाने के लिए यह योग आवश्यक है।
मुद्रा – ये आसन मन को आत्मा के साथ संयुक्त करने में सहायता करता है, इसके अलावा आसन और प्राणायाम दोनों क्रियाओं के परिपूर्ण होने के बाद ही मुद्रा मे प्रवेश करना चाहिए।
प्रत्याहार – प्रत्याहार में इंद्रियों को साधा जाता है और जब इनकी ज़रुरत होती है तो इनका प्रयोग करते है, जितना हो सके हम इन्हें शांत रखते है, प्रत्याहार में मन को साधना होता है, इसमें हम इंद्रियों के मालिक बनने लगते है।
ध्यानासन – शरीर में शक्तियों का समावेश करने और सामंजस्य बनाने, इसके अतिरिक्त मन को शांति और आलौकिक आनंद से परिपूर्ण करने में ये आसन फायदेमंद होते है।
समाधि – ऋषि मुनिओं ने ऐसी आध्यात्मविध्या ढूंढ निकाली है जिससे व्यक्ति सुख शान्ति का अनुभव कर सकता है, जो कभी खत्म नहीं होती, इसी को समाधि में बताया गया है।

Read Also : मुख्यमंत्री की पहली प्रेस कांफ्रेस… खास कुर्सी पर विराजमान थे योगी आदित्यनाथ !

Click To Comment
Daily Horoscope
सारे रिकॉर्ड तोड़ देगा ये शानदार फोन…एलजी की बेस्ट सेल फोन डील्स !

सारे रिकॉर्ड तोड़ देगा ये शानदार फोन…एलजी की बेस्ट सेल फोन डील्स !

क्या आप एक ऐसा स्मार्टफोन अपने हाथ में चाहते हैं जो हर लिहाज से बेहद शानदार हो...तो लीजिए आपके लिए पेश है एलजी की बेस्ट सेल फोन डील्स… New Delhi,Oct 08 : आज के दौर में हर कोई चाहता है कि उसके पास एक इतना शानदार फोन हो जो बेहतरीन फीचर्स से लेस हो। तो लीजिए हम आपकी इस टेंशन को दूर कर देते हैं। हम आपको एक ऐसे फोन के बारे मेंं बता रहे हैं जिसके बारे में कहा…
AIR POLLUTION CARTS AUTISM. Air pollution in the womb and the first two years of life may be associated with an increased risk of a child developing autism spectrum disorders

AIR POLLUTION CARTS AUTISM. Air pollution in the womb and the first two years of life may be associated with an increased risk of a child developing autism spectrum disorders

New York, May 22 (ITN Network / IANS) Exposure to air pollution in the womb and the first two years of life may be associated with an increased risk of a child developing autism spectrum disorders (ASDs), new research has found. ASDs are a range of conditions characterised by social deficits and communication difficulties that typically become apparent early in childhood. "Autism spectrum disorders are lifelong conditions for which there is no cure and limited treatment options, so there is…
Alankrita Manvi

Alankrita Manvi

अलंकृता मानवी टैरो कार्ड रीडर अलंकृता मानवी वैसे तो किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं। लेकिन, फिर भी अगर आप इन्‍हें नहीं जानते हैं तो हम आपका इसने परिचय करा देते हैं। अलंकृता मानवी अद्भुत प्रतिभा की धनी हैं। इनकी सारी सुंदरता और उनके गुण इनके नाम में ही समाए हुए हैं। टैरो कार्ड के जरिए सटीक भविष्‍यवाणी करने वाली अलंकृता बॉलीवुड से लेकर राजनैतिक गलियारों में भी काफी प्रसिद्धी हासिल कर चुकी हैं। अलंकृता ने आज तक जितने भी…
Please enable JavaScript!