अब चीन ने अलापा दोस्ती का राग, परदे के पीछे ड्रैगन की साजिश जारी है !

ड्रैगन हिंद महासागर

डोकलाम विवाद के कारण बैकफुट पर आए चीन ने अब भारत के साथ दोस्ती का राग अलापा है, वो भी धमकी भरे अंदाज में, चीन ने कहा कि उसके हथियार खिलौने नहीं है।

New Delhi, Aug 12: भारत और चीन के बीच डोकलाम को लेकर विवाद रोज नए रंग दिखा रहा है। डोकलाम में दोनों देशों की सेनाएं तैनात हैं। चीन अपनी दबंगई दिखा रहा है। अब भूटान ने भी खुलकर कह दिया है कि डोकलाम उसका हिस्सा है। ऐसे में चीन के तेवर थोड़े से बदले हैं। चीन ने अब दोस्ती का राग अलापा है। दरअसल डोकलाम में चीन के तेवरों को देखते हुए भारत ने सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से सटी चीन सीमा पर सेना की तैनाती बढ़ा दी है। इसके बाद चीन दोस्ती की बात कह रहा है। ड्रैगन की तरफ से कहा गया है कि उसके बड़े हथियार केवल खिलौने नहीं है। लेकिन वो दोस्ती चाहता है। चीनी नौसेना हिंद महासागर की सुरक्षा के लिए भारतीये नौसेना से हाथ मिलाना चाहती है।

डोकलाम विवाद के बीच में अचानक से ड्रैगन हिंद महासागर की बात कर रहा है। ये उसकी चाल हो सकती है, चीन काफी पहले से दिखाता कुछ है और करता कुछ है। इसलिए उसके इस बदले रुख से सावधान रहने की जरूरत है। एक तरफ चीन डोकलाम को लेकर भारत को धमकी दे रहा है तो वहीं दूसरी तरफ हिंद महासागर में भारतीय नौसेना के साथ मिलकर काम करने की बात कर रहा है। शुक्रवार को चीनी नौसेना ने अपनी युद्धपोत यूलिन मीडिया को दिखाया। उसमें मौजूद हथियारों के बारे में जानकारी दी। चीनी सेना के अधिकारियों ने कहा कि हिंद महासागर अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए एक साझा स्थान है। कहा गया कि हिंद महासागर में भारत और चीन दोनों साथ मिलकर काम कर सकते हैं।

चीनी नौसेना के एक अधिकारी ने कहा कि चीन और भारत हिंद महासागर की संरक्षा और सुरक्षा के लिए साझा तौर पर योगदान कर सकते हैं। ये बयान ऐसे समय में आया है जब चीनी नौसेना अपनी वैश्विक पहुंच बढ़ाने के लिए विस्तारवादी नीति पर काम कर रही है। बता दें कि हाल में ड्रैगन ने पहली बार हॉर्न ऑफ अफ्रीका यानि जिबूटी में एक नौसैनिक अड्डा स्थापित किया। इस से पता चलता है कि चीन कितना बेचैन है अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी साख को बढ़ाने के लिए। वो विश्व शक्ति बनने के सपने देख रहा है। लेकिन डोकलाम जैसे विवाद उसके लिए परेशानी का कारण बन रहे हैं। एशिया में भारत को दबाने की उसकी रणनीति नाकाम साबित हो रही है।

हिंद महासागर को लेकर भी चीन अपना दखल दिखाता रहता है। ऑस्ट्रेलिया जैसे कई देश मान चुके हैं कि हिंद महासागर में भारत सर्वोपरि है, लेकिन चीन को ये भी मंजूर नहीं है। वो हिंद महासागर में अपना दखल बढ़ा रहा है। इसके लिए वो अब भारत से दोस्ती चाहता है वो भी धमकी भरे अंदाज में। उसका ये कहना है कि उसके हथियार खिलौने नहीं है इस बात की तरफ इशारा कर रहा है। वो हिंद महासागर में समुद्री डाकुओ के खात्मे और यूएन के पीस कीपिंग और रिलीफ मिशन में मदद करने की बात कह रहा है। साफ है कि चीन भारत को हर तरफ से घेरना चाह रहा है। लेकिन वो कामयाब नहीं हो पा रहा है। डोकलाम के बाद वो हिंद महासागर में भी मात खाएगा।

आगे पढ़ेंः अमेरिका बोला, नरेंद्र मोदी से डर गए शी जिनपिंग, चीन के लिए सबसे बड़ी समस्या

Click To Comment
Daily Horoscope
आपको जबरदस्त फोन चाहिए ? तो आपके लिए है कूलपैड की बेस्ट स्मार्टफोन डील्स !

आपको जबरदस्त फोन चाहिए ? तो आपके लिए है कूलपैड की बेस्ट स्मार्टफोन डील्स !

अगर आप स्मार्टफोन लेने का मन बना रहे हैं तो हम आपके लिए लेकर आए हैं कूलपैड की बेस्ट स्मार्टफोन डील्स, ये पढ़कर आप भी इस फोन को लेने के लिए मचल उठेंगे। New Delhi, Nov 30 : भारत के मोबाइल मार्केट में स्मार्टफोन्स की क्या डिमांड है इस बात से तो हर कोई वाकिफ है। दरअसल भारत का मार्केट ऐसा है कि यहां सभी वर्ग के लोगों में स्मार्टफोन का क्रेज लगातार बढ़ता जा रहा है। इस बीच देखा…
Know how to prevent multidrug resistance

Know how to prevent multidrug resistance

  New York, May 19 (ITN Network / IANS) Instead of just one drug, prescribing patients drug combinations that reach similar parts of the body could be an effective way of combating pathogens such as viruses or bacteria, says a new study. Prescribing patients two or more drugs that do not reach the same parts of the body could accelerate a pathogen's resistance to all of the drugs being used in treatment, the findings showed. Not all drugs can reach…
Ankush Kakkar

Ankush Kakkar

Ankush Kakkar | Ankush Kakkar is having 10 year Experience in Vedic astrology and Vastu Consultancy.Ankush Kakkar have an expertise in four different streams of astrology. These are Vedic, Lal Kitab, KP and Vastu Consultancy. All of these streams have their strengths and weaknesses. I have an extensive knowledge as to where to use which stream for a flawless prediction. Some are used in Horary Astrology and some are good in predicting Varshphal. You need not worry if you do not…